11/10/2011

क्या नल के पानी से बुझेगी याकूब की प्यास............... ?




उत्तर प्रदेश में विधायको कों पार्टी से निकाले जाने का सिलसिला अभी लगातार बना हुआ है. जुमा -२ आठ दिन भी नहीं हुए थे की बसपा सुप्रीमो मुख्यमंत्री मायावती ने केबिनेट के शिक्षा मंत्री रंगनाथ मिश्र और श्रम मंत्री बादशाह सिंह कों मंत्री पद से हटा दिया. जुर्म दोनों मंत्रियो का बस इतना है कि लोकायुक्त की जाच में उन्हें दोषी पाया गया . बसपा पार्टी जिन दलितों और पिछडो वर्गों के आसरे उ. प्र. में राज कर रही है. उन्ही कों फिर से लुभाकर, दागदार मंत्रियो और भ्रष्ट्र नेताओ कों पार्टी से बाहर निकाल कर साफ़ छवि बनाने में जुटी है. और इन सब के बीच मायावती अपनी चुनावी बिसात भी बिछाने में भी लगी हुई है. मायावती के इन कड़े तेवर कों देखते हुए पार्टी का हर नेता खोफ खाया हुआ है. माया केबिनेट मंत्रियो की संख्या घटकर अब चार हो गई है.जिसमे से धर्मार्थ मंत्री राजेश त्रिपाठी, पशुपालन मंत्री अवधपाल यादव की भी छुट्टी कर दी गई .

आठ दिनों पूर्व मेरठ शहर विधायक हाजी याकूब कुरैशी कों बसपा से निष्कासित करने का मामला सामने आया था , हाजी याकूब सिखों पर बेहूदी टिप्पणी करने के मामले में पार्टी से निष्कासित किये गए है , याकूब के लिए अब बड़ा सवाल ये पैदा होता है की वे अपनी नवगठित यूडीएफ पार्टी कों किसके आसरे चलाए, वैसे भी पार्टी कों आगे बढ़ने की लिए जनाधार की आवश्यकता होती है वो याकूब के पास है नहीं, पार्टी चले तो चले किसके आसरे, सवाल बड़ा ही मुश्किल हैं. अब याकूब अपनी राजनीतिक प्यास कों बुझाये तो बुझाये कैसे ? सवाल ये भी बड़ा दिलचस्प है ? याकूब के पास बस एक मात्र विकल्प था, अजित सिंह की आरएलडी पार्टी, जिससे उनकी राजनीतिक प्यास बुझ सकती है, अंत में प्यासे कों नल के पास जाना ही पड़ा, याकूब कों पार्टी से निकलने के बाद कयास तो यही लगाये जा रहे थे कि याकूब अजित से हाथ मिला सकते है.लेकिन मौका परस्ती लोग मौका कभी गवाना नहीं चाहते

मेरठ के फैज़ ए - आम इंटर कालिज के मैदान में याकूब ने "मुस्लिम स्वाभिमान महापंचायत" का आयोजन कराया, इस आयोजन का सारा काम याकूब और उसके बेटे हाजी इकराम कि देख रेख में हुआ, जहा याकूब ने अपने बेटे हाजी इकराम कों इसी महापंचायत के ज़रीय आगामी विधानसभा चुनाव के लिए परमोट किया. तो वही राष्ट्रीय लोकदल के मुखिया अजित सिंह ने भी इस महापंचायत में शिरकत ली. मुस्लिम स्वाभिमान महापंचायत में इस तरह से अजित सिंह का शरीक होना कही न कही यही दर्शाता है की याकूब अब अजित सिंह के नल से अपनी राजनीतिक प्यास बुझाएंगे. जब मुस्लिम उलेमाओं को याकूब की असलियत पता चली तो उन्होंने इस महापंचायत कों राजनीति का अखडा बताकर इसका बहिष्कार कर दिया.

क्या फैज़ - ए आम इंटर कालिज का वही मैदान याकूब के लिए फिर से राजनीतिक भविष्य की नई ईबारत लिखेगा ? यही सवाल अब हर उस शख्स के ज़ेहन में गूंज रहा है जो यूडीएफ पार्टी से जुड़े है. अब से पहले याकूब ने इसी मैदान में कई सभाए की है. लेकिन इस बार फिर से मुस्लिमो कों लुभाने के लिए याकूब ने एक नई चाल चली, या यूँ कहे कि "मुस्लिम - किसान गठबंधन" की नई राजनीति, जो आगामी विधानसभा चुनाव में देखने कों मिल सकती है ( खासकर पश्चिम उत्तर प्रदेश में). याकूब के पास आरएलडी पार्टी ही एक मात्र विकल्प के रूप में उनके सामने थी. जिसके आसरे राजनीति में घुसा जा सके. याकूब ने अपनी राजनीति के शुरुआत जिस पार्टी से की थी उस पार्टी के भविष्य पर के बदरी के बादल छटने का नाम नहीं ले रही है. आए दिन उसके मंत्रियो का घोटाले और भ्रष्टाचार में संलिप्त पाये जाना हाजी याकूब कों रास नहीं आया. इसीलिए याकूब का कांग्रेस में जाने का मन नहीं था. याकूब के लिए आरएलडी ही एक मात्र ऐसी पार्टी है जहाँ उनको जगह मिल सकती है. मुस्लिम स्वाभिमान महापंचायत के बहाने याकूब ने अजित सिंह कों इस आयोजन में बुलाकर यहा जता दिया की याकूब अब आरएलडी के नल से पानी निकालेंगे .

आखिर इन सब के बीच याकूब की मंशा अपने बेटे कों सरधना विधानसभा सीट से प्रत्याशी बनाने कीऔर खुद कों मेरठ शहर की किसी भी विधानसभा सीट से प्रत्याशी बनाने की थी, लेकिन अजित सिंह की ख़ामोशी कुछ ज्यादा कह तो नहीं पाई,पर हाँ अजित ने मंच से इतना ज़रूर कहा की याकूब अगले महीने से अब आपके घर - २ घूमते मिलेंगे. तो कही न कही इस बयान से इतना साफ ज़ाहिर हो जाता है कि अजित सिंह भी मुस्लिम - किसान गठबंधन की राजनीति कों भुनाना चाहते है जिसका फायदा उन्हें इस विधानसभा चुनाव में मिले. लेकिन ये तो आने वाला वक्त ही तय करेगा की याकूब अपनी राजनीतिक प्यास कों नल के पानी से बुझाएंगे की नहीं .....

{ लेखक : ललित कुमार कुचालिया (प्रसारण पत्रकारिता)
( माखनलाल चतुर्वेदी पत्रकारिता विश्वविधालीय भोपाल, म. प्र. ). और हाल ही में महात्मा गाँधी अंतर्राष्ट्रीय हिंदी विश्वविधालीय वर्धा, ( महाराष्ट) से एम्. फिल. ( जनसंचार ) का शोधार्थी है " "हरीभूमि" ( दैनिक समाचार) छत्तीसगढ़ में रिपोर्टर भी रहे. देहरादून --- "वोइस ऑफ़ नेशन" न्यूज़ चैनल में भी काम किया ....}

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें