14/12/2010

मै कोंन हूँ ...........?

हर बार मेरे मन मे बस यही प्रश्न गूंजता है,
कि आखिर मै कोन हूँ ..............?

मै जिस संसार कि मानव प्रक्रति मे रहा
उसी मानव प्रक्रति के बीच से निकलकर बस यही सोचता ,
कि आखिर मै कोन हूँ .................?

कोन हूँ का प्रश्न मेरे मन को नोच डालता,
ओर समुन्द्री की तरह हिलोरे लेने लगता
मन के किसी कोने में छूपा यही प्रश्न मुझसे फिर पूछता
की आखिर मै कोन हूँ .................?

जिस माँ- बाप के हाथो से मेरा,
पालन पोषण बड़े ही चाव से हुआ, फिर भी में उनसे पूछता
की आखिर मै कोन हूँ .................?

01/12/2010

करीब से देखा मैंने ...................

चीख पुकार का वो मोत का मंज़र ,
उस मनहूस रात कों करीब से देखा मैंने ...

न जाने कितने गुनहगारो कों लील गयी वो
अपने ही हाथो से मोत कों फिसलते हुए, करीब से देखा मैंने...

धरती कों प्यासा छोड़ गयी वो
भूख से तडपते हुओ कों करीब से देखा मैंने ...

शहर का हर वो कोना जिसमे बस लाशे ही लाशे
कयोंकि लाशे से पटती धरती कों करीब से देखा मैंने .....

चिमनी से निकलता हुआ वो ज़हरीला धुँआ
शहर कों मोत की आगोश में सोते हुए, करीब से देखा मैंने ..

२६ साल स बाकि है अभी वो दर्द
लोगो को आंधे,बहरे और अपंग होते हुए, करीब से देखा मैंने ....

याद आता है माँ का वो आचल
माँ के आसुओ कों बहते हुए, करीब से देखा मैंने ....

(मेरे यह कविता भोपाल गैस त्रासदी के ऊपर लिखी गयी है, जिसको २ & ३ दिसंबर कों पूरे २६ वर्ष होने जा रहे है ....)
.वर्ष १९८४ की वह मनहूस रात कों यूनियन कार्बाइड के कीटनाशक सयंत्र से मिथाईल आइसोनाइड गैस का रिसाव होने से हज़ारो लोगो की मोत हो गयी थी
ललित कुमार कुचालिया
09752395352